अपने ही डिजिटल अभियान से बेखबर हैं विद्युत विभाग के अधिकारी

0
557

घर बैठे बढ़ा सकते हैं बिजली का लोड 

मुरादाबाद। उत्तर प्रदेश में बिजली उपभोक्ताओं को विभाग ने कई सहूलियत प्रदान की है लेकिन उसका प्रचार-प्रसार न होने की दशा में उपभोक्ता उसका फायदा नहीं उठा पा रहे हैं। उधर विभागीय अधिकारियों की सुस्ती विद्युत उपभोक्ताओं का नुकसान तो करा ही रही है, साथ ही पीएम मोदी के डिजिटल इंडिया अभियान को भी चूना लगा रही है।
विद्युत विभाग ने उपभोक्ताओं को एक ऐसी सहूलियत दे रखी है जो उनके बहुत काम की है। अब यदि किसी उपभोक्ता को बिजली का लोड बढ़ाना है तो उसे बिजली घर के न तो चक्कर लगाने पड़ेंगे और न ही कोई कागजी कार्यवाही पूरी करनी होगी।
अमूमन उपभोक्ता अपने बिजली का लोड बढ़ाने के लिए बिजली घर का चक्कर लगाते हुए देखे जाते हैं। हाल ही में उत्तर प्रदेश पॉवर कारपोरेशन ने ऐसे उपभोक्ताओं के लिए राहत दी है जिन्हें अपना विधुत भार बढ़ाना है। खास बात यह है कि आज उपभोक्ताओं के लिए यह सबसे आवश्यक जानकारी बिजली घरों में अमूमन उपभोक्ताओं को नहीं दी जाती।
बहरहाल अब एक आसान प्रक्रिया के द्वारा उपभोक्ता अपना विधुत भार कैसे बढ़ाये यह भी जान लेते हैं। इसके लिए उपभोक्ता को सीधे उत्तर प्रदेश पॉवर कारपोरेशन की वेबसाइट पर जाना होगा और वहां अपना अकाउंट बना कर “मैनेज अकाउंट सेक्शन” में जाकर “ऑनलाइन लोड एक्सटेंशन” पर क्लिक करना होगा।
उपभोक्ता वहीं से अपना विधुत भार बढ़ा सकते हैं। इसके लिए एलएमवी-1 और एलएमवी-2 के उपभोक्ता यहीं से अपना विधुत भार अधिकतम 20 किलोवाट तक बढ़ा सकते हैं जिसके लिए उन्हें केवल भार बढ़ाने की सरकारी फीस ही अदा करनी होगी जो लोड बढ़ाते समय उसी वेबसाइट पर प्रदर्शित होगी।
उपभोक्ता को इसके भुगतान के लिए दो विकल्प दिए गए हैं जिसमे वह वहीं से तत्काल ऑनलाइन भुगतान कर दे या फिर आने वाले अगले बिल में जमा करें। वहीं दूसरी तरफ घरेलु बिजली कनेक्शन में विधुत भार बढ़ाने की सीमा 4 किलोवाट तक है इसके ऊपर विधुत भार बढ़ाने के लिए बिजली घर से संपर्क करना होगा।
विडम्बना यह है कि ऑन लाइन यह सुविधा शुरू हुए काफी समय हो चुका है लेकिन बिजली घरों में इसके लिए उपभोक्ताओं को जागरूक नहीं किया गया। माना जा रहा है कि बिजली विभाग में उपभोक्ताओं द्वारा मिल रही शिकायतों के बाद उत्तर प्रदेश पॉवर कारपोरेशन ने यह प्रक्रिया शुरू की है।
पीएम मोदी के डिजिटल इंडिया अभियान में इस विभाग का यह बेहतरीन प्रयास है जहाँ इसके साथ-साथ कई अन्य ऑनलाइन सहूलियत उपभोक्ताओं को मुहैय्या की गई हैं। लेकिन सबसे हैरान करने वाली बात है कि विभाग द्वारा शुरू की गई इस ऑनलाइन सुविधा के बारे में मुरादाबाद के बिजली अधिकारियों को पता ही नहीं है।
इस बारे में जब अधिशासी अभियंता ज्ञान प्रकाश से जानकारी लेनी चाही तो उनके द्वारा कहा गया कि विभाग द्वारा शुरू की गई इस प्रक्रिया के बारे में उनके पास कोई जानकारी ही नहीं है। जबकि विभागीय टोल फ्री नंबर पर इस सुविधा के शुरू होने की पुष्टि भी की गई है।
वहीं मुरादाबाद के एक उपभोक्ता द्वारा ऑनलाइन प्रक्रिया के तहत अपना विधुत भार बढ़ाया भी जा चुका है। अब ऐसे में सवाल उठता है कि जिम्मेदार पदों पर आसीन जब एक अधिकारी के पास इसकी जानकारी नहीं है तो आम उपभोक्ता अपनी सहभागिता डिजिटल इंडिया की और कैसे कर सकेगा। वहीं इस सम्बन्ध में जब मुरादाबाद क्षेत्र के मुख्य अभियंता ईश्वरपाल से जानकारी लेने के लिए संपर्क करने की कोशिश की गई तो उनसे संपर्क नहीं हो सका।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here