Tevar Times
Online Hindi News Portal

राहुल गांधी चुनाव को कांग्रेस बनाम भाजपा बनाने में कितना सफल होंगे?

0
नरेश दीक्षित

भाजपा की राजस्थान, मध्यप्रदेश छत्तीसगढ़ में सत्ता की बेदखली इसकी आर्थिक नीतियों का चौतरफा विरोध, खास कर किसानों और बेरोजगार युवाओं में व्यापक असंतोष के कारण सत्ता से हाथ धोना पड़ा था और इसका फायदा राहुल गांधी ने उठाया था।
इसलिये जैसे-जैसे चुनाव के दिन निकट आ रहे हैं। भाजपा चुनावी प्रचार का भगवा करण कर साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण का प्रयास तेज कर दिया है। जनता के सभी ज्वलंत आर्थिक, सामाजिक व राजनैतिक सवालों से ध्यान हटाकर अराजनैतिक माहौल बनाया जा रहा है।
तमाम तरीकों से जमा किये गये भारी फण्ड और आधुनिक तकनीकी का इस्तेमाल कर अत्यंत निम्न स्तर का प्रचार अभियान शुरू किया गया है जैसा कि मोदी-शाह के भाषणों से जाहिर होता है। मोदी की इस जबान पर बेलगाम अभियान को आरएसएस का भी पूर्ण समर्थन प्राप्त है।
पुलवामा आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान समर्थित जैस ए मोहम्मद के ठिकानों पर बमबारी कर आतंकी अड्डो को तहस-नहस करने का प्रचार व्यापक पैमाने पर कर देश की जनता का ध्यान हटाने का भरसक प्रयास किया जा रहा है?
मोदी की तर्ज पर राहुल गांधी भी सरकार पर करारा प्रहार करने से नहीं चुकते हैं।
अभी कुछ दिन पूर्व एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि पाकिस्तान के पोस्टर बाॅय मोदी है नवाब शरीफ को शपथ ग्रहण में आपने बुलाया, बिना बुलाये आप पाकिस्तान गए इस लिए पोस्टर बाॅय आप है। राफेल फाइलें, पहले कहते हैं चोरी हो गई फिर कहते हैं चोरी नहीं फोटो कापी हो गई है तो रक्षा मंत्रालय एवं देश की कैसी चौकीदारी करते रहे।
राफेल डील में आपने निगोनियेशन कर रहे थे इस डील में प्रधानमंत्री शामिल हैं इसलिए राफेल सप्लाई में डिले किया गया है। जब हमने जे वी सी से राफेल की जांच की मांग की थी तो क्यो भाग गये? प्रधानमंत्री ने इस केस की बाईं पास सर्जरी की है।
राहुल गांधी ने यह भी कहा कि यदि शहीद के परिवार सबूत मांग रहे हैं तो उन्हे देना चाहिए सबूत देने से भाग क्यो रहे हैं? राहुल गांधी की इस प्रेस कांफ्रेंस से जाहिर है कि गाँधी राफेल के मुद्दे पर मोदी सरकार को घेर कर इसे चुनावी मुद्दा बनायेंगे।
किन्तु यह बात भी दिन ब दिन साफ होती जा रही हैं कि विपक्षी पार्टियां देश की जनता के सामने कोई सुधार वादी वैकल्पिक कार्यक्रम भी रखने के लिए तैयार नहीं है और भाजपा से लड़ने के लिए स्वयं नरम हिन्दुत्व के रास्ते चल रही है और कारपोरेट परस्त नीतियों के प्रति अपनी निष्ठा वयक्त करते हैं।
आगामी लोकसभा चुनाव में मोदी सरकार की सत्ता से वैसे बेदखली की सम्भावना दिन पर दिन बलवती होती जा रही हैं। मगर विपक्षी दलों के पास कोई वैकल्पिक नीति नहीं है। यह देश की जनता के लिए बड़ी चुनौती है?
कांग्रेस इस चुनाव को राहुल गाँधी के धार दार अभियान से मोदी को राफेल, पुलवामा, डोगलाम, बेरोजगारी, किसानों, महिलाओं, नौजवानों पेट्रोलियम पदार्थों की बढ़ती कीमतों, नोटबंदी, जीएसटी इत्यादि मुद्दों पर देश भर में लगातार घुम घुम कर प्रचार कर रहे हैं और चुनाव कांग्रेस बनाम भाजपा बनानेमें सफल होते नजर आ रहे हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More