लखनऊ। आल इण्डिया शिया अवामी लीग एवं उ.प्र. शिया सेण्ट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिज़वी ने कहा है कि 06 दिसम्बर, 1992 को बाबरी ढांचा गिरा कर श्री राम की मूर्तियां स्थापित कल्याण सिंह की मदद से हो पायी थी और आज श्री राम के मन्दिर का निर्माण संवैधानिक या गैर-संवैधानिक तरीके से सिर्फ़ मोदी जी की मदद से ही हो सकता है।
वसीम ने कहा कि यह चुनाव इस देश के लिए खास इस लिए है कि मोदी जी की जीत भारत के तिरंगे की जीत है और उनकी हार चांद-तारे की जीत है। क्योंकि पूरे देश में कट्टरपंथी आतंकी संगठन शत्रु मुल्क पाकिस्तान की मदद से अपने पैर जमाने के लिए मोदी को प्रधानमंत्री से हटने का इन्तेज़ार कर रहे हैं, क्योंकि उनकी दहशत की वजह से वह अपने नापाक इरादे में कामयाब नहीं हो रहे हैं।
अगर मुस्लिम आतंकी संगठन भारत में अपनी जड़ों को मज़बूत करने में कामयाब हो गया तो इस देश में हिन्दू और शिया दोनों समाज खतरे में पड़ जायेंगे। आईएसआईएस जो अभी तक सिर्फ कश्मीर तक ही सीमित हैं वह भारत के कट्टरपंथी मुस्लिम समाज के मदरसों के ज़रिये पूरे देश में अपना जाल बिछाने की साज़िश कर रहा है।
ऐसे कठिन समय में भारत को मोदी जैसे ही प्रधानमंत्री की जरूरत है। आल इण्डिया शिया अवामी लीग पूरे देश में नरेन्द्र मोदी जी का समर्थन करते हुए भारतीय जनता पार्टी को वोट देने की अपील करता है।
चुनाव में भाजपा की हार तय देखकर जाति की बात करने लगे हैं प्रधानमंत्री: अखिलेश
यूपी बोर्ड के परीक्षा परिणाम घोषित: 10वीं में 80.07 तो 12वीं में 70.06 प्रतिशत अभ्यर्थी सफल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here