• विपश्यना केंद्र के नवनिर्मित पुरुष ब्लॉक का किया उद्घाटन
  • मुख्यमंत्री योगी, सांसद भोले, औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना रहे मौजूद   
कानपुर। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सोमवार को कानपुर के ड्योढ़ी घाट महाराजपुर मैं विपश्यना केंद्र के नवनिर्मित पुरुष ब्लॉक का उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि जिस तरह भारत में योग का स्थान पूरे विश्व के मानचित्र पर लाया गया ठीक उसी तरह भारत की अनेकों ध्यान पद्धतियों में से एक विपश्यना पद्धति को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति मिल रही है।
राष्ट्रपति ने कहा कि जिस तरह से शारीरिक व्यायाम से शरीर स्वस्थ बनाया जाता है ठीक वैसे ही विपश्यना पद्धति मन को स्वस्थ बनाने का काम करती है। यह पद्धति भगवान गौतम बुद्ध ने लगभग 2500 वर्ष शुरु की थी। वर्तमान में इस विलुप्त हो चुकी पद्धति का दोबारा अनुसंधान कर शुरुआत तेजी से बढ़ रहा है।यह साधना मानव के मन.मस्तिष्क का व्यायाम कर प्रसन्न रखने में सहायक है।
राष्ट्रपति ने म्यांमार का जिक्र करते हुए कहा कि राष्ट्रपति बनने के बाद मेरा वह जाना हुआ। वहां विपश्यना ध्यान पद्धति के प्रमुख प्रणेता सत्यनारायण गोयनका से मुलाकात हुई। उन्होंने बताया कि म्यांमार में जिसे स्वेडा पगौडा देखने को मिले उसे जरूर देखें। 18 वर्ष पहले इस पद्धति से जुडऩे का भी मौका मिला। यह बहुत आकर्षित करने वाली और अच्छी पद्धति है। विपश्यना ध्यान केंद्र के कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, सांसद देवेंद्र सिंह भोले तथा प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना आदि मौजूद रहे।
कांग्रेस की चुनाव समिति की बैठक में प्रत्याशियों के चयन पर हुई माथापच्ची
भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ती प्रधानमंत्री आवास योजना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here