बांदा। उत्तर प्रदेश में अबतक 5000 पुलिस मुठभेड़ हुई है। जिनमें 62 बदमाश मारे जा चुके हैं। पुलिस ने लगभग 2000 इनामी अपराधियों को गिरफ्तार किया है। अब प्रदेश के हर जिले में टॉप-3 और हर थाने में टॉप-10 अपराधियों की सूची बनाकर उन पर कार्रवाई होगी।

यह बात शनिवार को चित्रकूटधाम परिक्षेत्र के बांदा जिले के दौरे पर आए प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओपी सिंह ने कही। डीजीपी ने यहां कोतवाली परिसर में प्रदेश में पहली बार बनाये गये आधुनिक ई-मालखाना का उद्घाटन किया। साथ ही नवनिर्मित महिला सम्मान कक्ष का भी उद्घाटन किया।
डीजीपी ने कहा कि अब पूरे प्रदेश के थानों में ई मालखाने बनेंगे। डीजीपी ने पत्रकार वार्ता में कहा कि उनकी पहली प्राथमिकता प्रदेश में कानून व्यवस्था बरकरार रखना है। उन्होंने कहा कि पिछले 8-10 माह से पुलिस ने अपराधियों को गिरफ्तार करने के लिए अभियान छेड़ रखा है।
बदमाशों के साथ पुलिस की हुई करीब 5000 मुठभेड हो चुकी है, जिनमें अब तक 62 अपराधी मारे गए हैं। उन्होंने दावा किया कि मुठभेड़ या गिरफ्तारी में जो भी प्रक्रिया अपनाई जा रही है वह कानून के दायरे में है। पुलिस का मुख्य मकसद अपराधियों की गिरफ्तार करना है।
डीजीपी ने बताया कि अपराधियों पर गैंगेस्टर के तहत कार्रवाई करके उनकी अवैध संपत्तियां जब्त की जा रही हैं। अब तक एक अरब 97 करोड़ की संपत्तियां बरामद की जा चुकी हैं। भूमाफियाओं को भी चिन्हित किया जा रहा है। इलाहाबाद जोन समेत सभी क्षेत्रों में उनके विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जा रही है। इनकी भी संपत्ति जब्त की जाती है।
डीजीपी ने कहा कि महिला अपराध रोकने के लिए एंटी रोमियो बहुत प्रभावी साबित हुई। सोशल मीडिया पर भी ध्यान दिया रहा है। कोई भी व्यक्ति इस माध्यम से भी पुलिस को जानकारी दे सकता है। इसका दायरा देश के बाहर भी रखा गया है। ताकि खाड़ी देश, इंग्लैंड, अमेरिका आदि विदेशों में रहने वाले उत्तर प्रदेश के लोगों की समस्याओं का निस्तारण किया जा सके। डीजीपी ने बताया कि भ्रष्टाचार के मामले में अब तक 22 पुलिस कर्मियों को बर्खास्त किया जा चुका है।

इससे पहले डीजीपी ने पुलिस अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। बैठक में इलाहाबाद परिक्षेत्र के अपर पुलिस महानिदेशक एसएन सावत, डीआईजी मनोज तिवारी और पुलिस अधीक्षक शालिनी व चित्रकूटधाम परिक्षेत्र के सभी जनपद प्रभारी एवं रापजत्रित अधिकारी तथा हेड मोहर्रिर उपस्थित रहे।
बैठक के दौरान डीजीपी ने निर्देश दिये कि मुख्यालय द्वारा भेजे गये परिपत्रों का कडाई से पालन कराया जाय। पुलिसिंग के साथ पुलिस की छवि सुधार सम्बन्धी कार्यो को भी किया जाय। डीजीपी ने थाना कोतवाली नगर का निरीक्षण किया और पुलिस परिवार कल्याण एवं जनजागरूकता पर आधारित किये गये प्रयासों का जायजा लिया गया।
इसके अलावा डीजीपी ने पुलिस लाईन्स बांदा में आधुनिक जिमनेजियम हाल का उद्घाटन किया गया एवं पुलिस परिवार के बच्चों द्वारा निष्प्रयोज्य वस्तुओं से तैयार किये गये आकर्षक वस्तुओं/आर्ट क्राफ्ट की प्रशंसा की। उन्होंने पुलिस कर्मियों के उन बच्चों जिन्होंने कक्षा-10वीं एवं 12वीं में सर्वाधिक अंक अर्जित किये, उन्हें पुरस्कृत भी किया। इसके साथ ही पुलिस जवानों, प्रशासनिक अधिकारियों एवं कॉप आफ द मंथ चुने गये अधिकारी-कर्मचारियों के साथ भोजन किया।
15वें प्रवासी भारतीय दिवस में 8 हजार महानुभाव होंगे शामिल
शारदा का जलस्तर खतरे के निशान से पार, कई गांवों पर मंडरा रहा बाढ़ का खतरा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here