Tevar Times
Online Hindi News Portal

योगी ने किया खीरी के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई दौरा

0

बाढ़ पीड़ितों से मिलकर मुख्यमंत्री ने जाना हाल, दिए निर्देश

लखीमपुर खीरी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को लखीमपुर खीरी जिले के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया। साथ ही शारदा बैराज स्थित सिंचाई विभाग के निरीक्षण भवन में जनप्रतिनिधियों तथा अधिकारियों के बाढ़ से बचाव के लिए अब तक किये गये कार्यो की समीक्षाकर आवश्यक दिशा निर्देश दिये।

इसके साथ ही उन्होंने जनप्रतिनिधियों तथा अधिकारियों से युद्धस्तर पर राहत व बचाव कार्य करने की अपील की और बाढ़ पीड़ितों को स्थाई तटबंध निर्माण करने का भरोसा दिलाया। मुख्यमंत्री ने कहा कि बारिश के मौसम में तटबंध कटने से आसपास के लोगों को बाढ़ का सामना करना पड़ता है। इसे रोकने के लिए स्थाई तटबंध का निर्माण करना जरूरी है। आपदा पीड़ितों की मदद के लिए केंद्र व राज्य दोनों ही सरकारें जनता की पूरी मदद करेंगी।
इससे पहले निरीक्षण भवन पहुंचते ही सर्वप्रथम मुख्यमंत्री ने अबतक बाढ़ से बचाव के  लिए की गयी तैयारियों का ब्यौरा मांगा। इस पर जिलाधिकारी शैलेन्द्र कुमार सिंह ने बताया कि अब तक जनपद में 397 नावें तथा 79 गोताखोरों की व्यवस्था की गयी है। एनडीआरएफ वाराणसी से लगातार सम्पर्क बना हुआ है जिसे बाढ़ की स्थिति में तत्काल कार्यवाही सुनिश्चित की जा सके।
डीएम ने बताया कि पूर्व के वर्षो में तहसील धौरहरा, लखीमपुर (फूलबेहड़) में  कटान की स्थिति ज्यादा भयावह होती थी किन्तु इस वर्ष की गयी तैयारियों के कारण कटान में कमी आयी है। इसके अतिरिक्त बाढ़ से हुयी फसलों की क्षति का आकलन किया जा रहा है। राहत सामग्री की व्यवस्था कर ली गयी है, जिससे आवश्यकता पड़ने पर तुरन्त राहत पहुंचायी जा सके।
इसके बाद मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से सांप काटने के पश्चात बचाव हेतु वैक्सीन की उपलब्धता के बारे में जानकारी ली। जिस पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ मनोज अग्रवाल ने कहा कि जनपद में इससे सम्बन्धित वैक्सीन की पर्याप्त उपलब्धता है। मुख्यमंत्री ने अपने निर्देश में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में स्वच्छता का विशेष ध्यान रखने, क्लोरीन की टैबलेट बांटने, एंटीलार्वल छिड़काव करने तथा शुद्ध पेयजल की उपलब्धता एवं जानवरों को चारा उपलब्ध कराने के संबंध में जानकारी प्राप्त की।
उन्होनें कहा कि जनपद में कैरोसीन तथा एलपीजी की पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता सुनिश्चित की जाय। साथ ही अगर बाढ़ आती है तो बाढ़ पीड़ितों को उपलब्ध कराने हेतु पर्याप्त मात्रा में खाद्यान्न उपलब्ध रहना चाहिए। जिसपर जिलाधिकारी ने बताया कि कटान क्षेत्रों में प्रभावितों हेतु उपर्युक्त समस्त व्यवस्थाएं सुनिश्चित की गयी है। मुख्यमंत्री ने इस के लिए जनपद के एनजीओ, सामाजिक संगठनों, व्यापारिक संगठनों आदि के साथ बैठक कर अभी से खाद्यान्न सामग्री की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिये।
yogi conducted air survey of flood affected areas in lakhimpur khera and gonda
मुख्यमंत्री ने कहा कि बाढ़ पीड़ितों को 24 घण्टे के भीतर राहत पहुंचाये जाय। माह अगस्त और सितम्बर में बरसात की अधिक संभावना रहेगी। इस लिए हम सतर्क रहे और संवेदनशील स्थलों चिन्हांकन कर वहां अधिकारियों की उपस्थित सुनिश्चित की जाय तथा लगातार निगरानी की जाय, जिससे जनधन की हानि न हो।
सदर विधायक योगेश वर्मा ने विकास खण्ड नकहा के ग्राम रेहरियांकला में कटान का जिक्र किया। जिसपर मुख्यमंत्री ने अधिशाषी अभियंता बाढ़खण्ड से उसगांव में कटान का कारण पूछा। इस पर अधिशाषी अभियंता विनोद कुमार सिंह ने कहा कि रेहरियाकलां गांव की स्थिति दो नदियों के मध्य है जिससे वह गांव कटान से ज्यादा प्रभावित होता है। वहीं सांसद अजय मिश्र टेनी ने कहा कि उस गांव के कटान का एक बड़ा कारण मिट्टी की प्रकृति भी है।
मुख्यमंत्री ने सावन के माह में गोला गोकर्णनाथ मंदिर में साफ सफाई तथा अन्य व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी प्राप्त की और आवश्यक व्यवस्थाओं से संतुष्ट हुए। मुख्यमंत्री ने कहा कि आपदा को रोका तो नही जा सकता किंतु बेहतर उपायों एवं पूर्व तैयारियों के द्वारा हम जनधन की हानि को न्यूनतम कर सकते है। बैठक के उपरांत मुख्यमंत्री ने तहसील लखीमपुर के बाढ़ पीड़ितों से मुलाकात कर उनका हाल जाना। इसके बाद उन्होनें शारदा बैराज का भी निरीक्षण किया।
बैठक में राज्यमंत्री सिंचाई, सिंचाई (यात्रिंक), अल्पसंख्यक कल्याण उप्र बलदेव सिंह औलख, जिले की प्रभारी मंत्री गुलाब देवी, जिलाध्यक्ष शरद बाजपेई, सांसद अजय मिश्र टेनी, पूर्व राज्यसभा सदस्य जुगुल किशोर, विधायक योगेश वर्मा, अरविंद गिरि, मंजू त्यागी, बाला प्रसाद अवस्थी, रोमी साहनी, लोकेन्द्र प्रताप सिंह, सौरभ सिंह सोनू, जिला पंचायत अध्यक्ष प्रतिनिधि नरेन्द्र सिंह,राहत आयुक्त संजय कुमार, जिलाधिकारी शैलेन्द्र कुमार सिंह, पुलिस अधीक्षक रामलाल वर्मा, मुख्य विकास अधिकारी रवि रंजन सहित संबंधित जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More